Feb, 17, 2020
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

मोदी के ब्लाग से विचलित हुए अखिलेश यादव, दिया मोदी को जवाब…

Sharing is caring!

National Desk : लोकसभा चुनाव के नजदीक आने के साथ साथ माहौल हर दिन गर्माता नजर आ रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिग्गज नेता रहे राम मनोहर लोहिया की जयंती पर उन्हें याद करते हुए कांग्रेस और देश के समाजवादी दलों पर जमकर हमला बोला है। मोदी ने लोहिया की जंयती पर एक ब्लॉग लिखकर समाजवादी विचारधारा वाले दलों को कांग्रेस से गठबंधन पर खूब खरीखोटी सुनाया है। पीएम ने अपने ब्लाग में लिखा,  जिस गैर-कांग्रेसवाद के लिए लोहिया जीवन भर लड़ते रहे, उसके साथ ही उन्होंने महामिलावटी गठबंधन कर लिया है।

पीएम मोदी ने लोहिया का जिक्र कर समाजवादी दलों पर तीखा वार करते हुए कहा कि आज 130 करोड़ भारतीयों के सामने यह सवाल मुंह बाए खड़ा है कि जिन लोगों ने डॉ. लोहिया तक से विश्वासघात किया, उनसे हम देश सेवा की उम्मीद कैसे कर सकते हैं?  जाहिर है, जिन लोगों ने डॉ. लोहिया के सिद्धांतों से छल किया है, वे लोग हमेशा की तरह देशवासियों से भी छल करेंगे।

पीएम मोदी ने समाजवादी पार्टी और आरजेडी जैसे दलों पर वार करते हुए कहा, ‘दुर्भाग्य की बात है कि राजनीति में आज ऐसे घटनाक्रम सामने आ रहे हैं, जिन्हें देखकर डॉ. लोहिया भी विचलित, व्यथित हो जाते। वे दल जो डॉ. लोहिया को अपना आदर्श बताते हुए नहीं थकते, उन्होंने पूरी तरह से उनके सिद्धांतों को तिलांजलि दे दी है। यहां तक कि ये दल डॉ. लोहिया को अपमानित करने का कोई भी कोई मौका नहीं छोड़ते।

इसके साथ ही मोदी ने ओडिशा के वरिष्ठ समाजवादी नेता सुरेन्द्रनाथ द्विवेदी की एक टिप्पणी का जिक्र करते हुए लिखा, ‘डॉ. लोहिया अंग्रेजों के शासनकाल में जितनी बार जेल गए, उससे कहीं अधिक बार उन्हें कांग्रेस की सरकारों ने जेल भेजा था। आज उसी कांग्रेस के साथ तथाकथित लोहियावादी पार्टियां अवसरवादी महामिलावटी गठबंधन बनाने को बेचैन हैं। यह विडंबना हास्यास्पद भी है और निंदनीय भी है। पीएम मोदी ने इस ब्लॉग को ट्वीट भी किया है। 

उधर पीएम के इस वार का सपा नेता अखिलेश यादव ने जवाब दिया, अखिलेश यादव ने पीएम मोदी की टिप्पणी पर पलटवार करते हुए कहा कि हमें राष्ट्रवाद के लिए बीजेपी से सर्टिफिकेट या लेक्चर लेने की जरूरत नहीं है। पीएम और बीजेपी को समाजवाद और सेकुलरिज्म से कोई लेना-देना नहीं है। इन्हें जब भी मौका मिला है, उन्होंने वादों के खिलाफ काम किया है। यह सरकार झूठ के नाम से जानी जाएगी। लोहिया ने जाति तोड़ो आंदोलन चलाया था, लेकिन बीजेपी ने देश में जातिवाद का जहर फैलाने का काम कर रही है। 

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...