Feb, 17, 2020
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

कमलनाथ की यात्रा पर खर्च हुए करोड़ो, आखिर कहां घूमने गये थे मुख्यमंत्री

Sharing is caring!

National Desk : मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ अपनी एक यात्रा को लेकर अब मिडिया और विरोधियों के निशाने पर आ रहे है। हाल ही में कमलनाथ और उनके शीर्ष नौकरशाहों को स्विटजरलैंड में रुपने की व्यवस्था के लिए लगभग 1.58 करोड़ रुपये सरकारी खर्च में दिखाए गये है और इसका खुलासा आरटीआई दस्तावेजों के द्वारा किया गया है।

दस्तावेजों के मुताबिक मुख्यमंत्री कमलनाथ, मध्य प्रदेश के मुख्य सचिव एसआर मोहंती, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव अशोक बर्णवाल और राज्य सरकार के औद्योगिक नीति और निवेश प्रोत्साहन विभाग के प्रधान सचिव, मोहम्मद सुलेमान ने स्विट्जरलैंड के दावोस में हुए विश्व आर्थिक मंच जनवरी 2019 में भाग लिया था। जिसके लिए मध्य प्रदेश सरकार के इस प्रतिनिधिमंडल को दावोस में एक्सक्लूसिव बिजनेस लाउंज में ठहराया था जिसका बिल 1.58 करोड़ रुपये आया है।

‘इन्वेस्ट इंडिया’ के सहयोग से प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने निवेशकों, शिक्षाविदों, नीति निर्माताओं आदि को मध्य भारत में राज्य को एक अत्यधिक संभावित निवेश गंतव्य के रूप में उजागर करने के लिए मुलाकात कि थी ताकि उन्हें निवेश करने के लिए मध्य प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में आकर्षित किया जा सके। लेकिन निवेश कितना हुआ इसका पता नहीं लेकिन सरकार के 1.58 करोड़ रुपये खर्च कर दिये गये।

आरटीआई के बाद सरकार की तरफ से इस पर सफाई पेश की गयी एक नोटशीट आरटीआई आवेदन के जवाब के रुप में मिली हुई थी जिसमें कहा गया था कि अगर यह यात्रा नहीं की जाती तो मध्य प्रदेश राज्य में निवेश होने की उम्मीद नहीं होती और किसी भी निवेशक से भी मुलाकात नहीं होती।

सीआईआई प्रतिनिधि के एक आर्डर में यह स्पष्ट किया गया था कि भारतीय उद्योग परिसंघ का एक प्रतिनिधिमंडल भी प्रतिनिधिमंडल के साथ है और दावोस की उपरोक्त यात्रा के लिए 1,57,85,000 रुपये की वित्तीय स्वीकृति भी है, जिसमें हवाई टिकट, आवास आदि की लागत भी शामिल है।

दावोस के लिए हवाई टिकट और वीजा खर्च के लिए 30 लाख रुपये, होटल के लिए 45 लाख रुपये, स्थानीय प्रवास पर 9.5 लाख रुपये, ज्यूरिख हवाई अड्डे पर वीआईपी लाउंज एक्सेस के लिए 2 लाख रुपये, यात्रा बीमा पर 50,000 रु और डीआईपीपी लाउंज भागीदारी शुल्क और प्रचार सामग्री पर 40 लाख रुपए का भुगतान किया गया था। RTI के द्वारा जवाब में कहा गया है। 

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...