Feb, 21, 2020
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

मिशन शक्ति परीक्षण पर नासा ने उठाया सवाल…

Sharing is caring!

International Desk : मिशन शक्ति के परीक्षण के बाद जहां भारत की ताकत बढ़ी है और देश के प्रधानमंत्री ने इस कदम के लिए सभी की सराहना की है तो वहीं अब नासा ने भारत के इस कदम को चिंता का विषय बताया है. अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने मंगलवार को चिंता जाहिर करते हुए बताया ‘भारत द्वारा किए गए एंटी सैटेलाइट मिसाइल परीक्षण की वजह से अंतरिक्ष में मलबे के करीब 400 टुकड़े इकट्ठे हो गए हैं, जिसकी वजह से अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन के लिए जाने वाले एस्ट्रोनॉट्स को दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है’

सोमवार को नासा प्रमुख जिम ब्रिडेनस्टाइन जानकारी देते हुए बताया कि भारत द्वारा पांच दिन पहले किए गए टेस्ट सारे टुकड़े इतने बड़े नहीं हैं जिन्हें ट्रैक किया जा सके. उन्होंने कहा, ‘हमारी उस पर नजर है और हम बड़े टुकड़ों को ट्रैक कर रहे हैं. अभी तक सिर्फ 60 टुकड़े ही मिले है और करीब 24 टुकड़े इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के ऊपर चले गए हैं. जो चिंता का विषय है. ब्रिडेन्सटाइन कहा, ‘यह बेहद भयानक है. मलबा अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन से भी ऊपर जा रहा है. जिससे भविष्य में मानव को अंतरिक्ष में भेजना मुश्किल और खतरनाक हो जाएगा.

नासा प्रमुख ने कहा कि अंतरिक्ष स्पेश स्टेशन में अमेरिकी सेना इस तरह के मलबों को ट्रैक करती रहती है उनके आपस में टकराने की संभावना ना रहे. फिलहाल में 10 सेंटीमीटर से बड़े करीब 23 हज़ार ऑब्जेक्ट को सेना ने ट्रैक कर लिया है. जिनमें से 10 हज़ार टुकड़े स्पेस मलबे का पार्ट हैं. 2007 में चीन द्वारा किये गए एंटी-सैटेलाइट टेस्ट की वजह से 3 हजार टुकड़े बने थे. अब भारत द्वारा किए गए टेस्ट की वजह से पिछले दस दिनों में ही आईएसएस के साथ टकराने की संभावनाएं 44 फीसदी बढ़ गई हैं.

भारत ने पृथ्वी की निचली कक्षा में 300 किलोमीटर की रेंज पर मौजूद एक ऐसे सैटलाइट को मार गिराया था जो अब सेवा से बाहर हो चुका था. इसकी जानकारी खुद पीएम मोदी ने देश को दी थी। पीएम ने देश को संबोधित करते हुए कहा था कि इस मिशन की सफलता के बाद अब भारत भी स्पेस पावर के तौर पर खड़ा हो चुका है. पीएम ने कहा कि भारत का यह ऐंटी-सैटलाइट मिसाइल पूरी तरह से स्वदेशी है। 

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...