Sep, 22, 2019
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

जेट कर्मचारीयों ने की जेटली से मुलाकात, तत्काल समाधान की रखी मांग

Sharing is caring!

Business Desk : जेट का संकट अब लोगों के घरों तक पहुंचने लगा है कंपनी के डूबने के बाद अब लोगों का घर भी डूबने की कगार पर पहुंचने लगा है। कोई घर बेचने को मजबूर हो रहा है तो कोई बच्चों से बात नहीं कर रहा है। अचानक से नौकरी से निकाले जाने के बाद अब जेट के लोगों को कुछ भी समझ नहीं आ रहा है।

बढ़ते संकट को देखते हुए जेट एयरवेज के कर्मचारियों ने शनिवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात की, कर्मचारियों ने इस दौरान वित्त मंत्री से मामले में समस्या का हल निकालने की अपील की और कहा कि उन्हे जल्द से जल्द सैलरी दिलाई जाये। इसके पहले जेट के कर्मचारियों ने अपने वेतन और अन्य बकायों के भुगतान और एयरलाइन को मदद उपलब्ध कराने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हस्तक्षेप का भी आग्रह किया था।

जेट के जमीन पर आने के बाद से पायलटों सहित करीब 23,000 कर्मचारियों का वेतन रुक गया है और यह लोग बुरी तरह से परेशान चल रहे है। एयरलाइन ने परिचालन के लिए पर्याप्त धन नहीं होने की वजह से अपने सेवाओं को अस्थायी तौर पर जेट ने निलंबित कर दिया है।

वहीं इस समस्या को लेकर कर्मचारियों के दो यूनियनों ने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को पत्र भी लिखा है। सोसायटी फॉर वेलफेयर ऑफ इंडियन पॉयलट्स और जेट एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियर्स वेलफेयर एसोसिएशन ने दो अलग-अलग पत्र लिखकर अपने बकाया वेतन के भुगतान में मदद का निवेदन किया है.

एक पत्र में कहा गया है कि हम आपसे इस मुद्दे पर तत्काल विचार करने और जेट एयरवेज प्रबंधन को प्रभावित कर्मचारियों के बकाया वेतन का तत्काल भुगतान करने का निर्देश देने का आपसे अनुरोध करते हैं।

एयरलाइन को तत्काल धन उपलब्ध कराने की प्रक्रिया में तेजी लाने का आपसे आग्रह करते हुए हम कहना चाहते हैं कि इस चुनौतीपूर्ण समय में हर मिनट और हर निर्णय बहुत महत्वपूर्ण है। बता दें कि कई महीनों की अनिश्चितता के बाद जेट एयरवेज ने 17 अप्रैल को अपना परिचालन अस्थाई रूप से निलंबित कर दिया.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...