Feb, 17, 2020
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

आयकर विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट में नोटबंदी को बताया सही..

Sharing is caring!

Business Desk : आयकर विभाग ने नोटबंदी को सही फैसला बताते हुए कहा कि नोटेबंदी की वजह से 2017-18 मे उसने 1.07 करोड़ नए करदाता जोड़े है, जबकि ड्रॉप्ड फाइलरो अर्थात आईटीआर फाइल करने और बाद में छोड़ देने वालो की संख्या घटकर 25.22 लाख हो गयी है। 

केंद्रीय प्रत्यक्ष बोर्ड(CBDT) के एक बयान मे उन्होंने कहा कि वित्त वर्ष 2017-18 मे 6.87 करोड़ आयकर रिटर्न फाइल किये गये है और साथ ही यह भी बताया गया है कि 2017-18 साल के आयकर रिटर्न के आकंड़े 2016-17 के आंकड़ों से काफी बेहतर थे। जहां 2016-17 में 5.48 करोड़ ITR बीएस फाइल किये गए थे, इसका अर्थ यह हुआ कि 2016-17 के मुकाबले 2017-18 मे 25 फिसदी वृद्धि हुई।

इसके साथ आईटीआर फाइल कर नये करदाताओं की संख्या बढ़कर 1.07 हो गई जबकि 2016-17 मे भी 86.16 लाख नए करदाता जुड़े थे। केंद्रीय प्रत्यक्ष बोर्ड (CBDT) ने कहा कि “नोटेबंदी ना सिर्फ कालाधन निकलने में सहायक सिद्ध हुई है, अपितु इसके कई सकारात्मक परिणाम भी सामने आये है। जिन लोगो ने कभी कर नहीं भरा था नोटेबंदी के पश्चात उन्होंने भी करदाता बन आईटीआर फाइल किया है।” जो कि भारत की अर्थव्यवस्था बनाये रखने में काफी सहायक सिद्ध हो सकता है। 

ड्रॉप्ड फाइलरो उसे कहते है जो कि आईटीआर फाइल करने वालों में शामिल होते है लेकिन किन्ही तीन लगातार वित्त वर्षो में आईटीआर फाइल नहीं करते है। नोटेबंदी के पश्चात ड्रॉप्ड फाइलरो की संख्या में काफी गिरावट आई है। 2016-17 में ड्रॉप्ड फाइलरो की संख्या 28.34 लाख थी, जो 2017-18 के बीच घटकर 25.22 लाक हो गई है। 

केंद्रीय प्रत्यक्ष बोर्ड(CBDT) ने कहा कि 2016-17 के मुकाबले में 2017-18 पूर्ण कर संग्रहण में फिसदी वृद्धि हो कर 10.03 लाख करोड़ हो गया है।   

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...