Feb, 20, 2020
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

भारत की राजधानी दिल्ली में इन जगहों पर घूमने जरूर जाएँ

Sharing is caring!

Lifestyle Desk : भारत की राजधानी दिल्ली की हर गली के नाम में खुद की एक अलग विशेषता है। दिल्ली एक ऐसा शहर है जहा की खूबसूरती शब्दों में व्यान नहीं किया जा सकता है। अगर कभी आप दिल्ली जाते है तो कुछ खास जगह है,जिनके बारे में हम आपको आज जानकारी देंगे। वैसे तो दिल्ली में काफी जगह है घूमने लायक पर आज हम 10 खास जगह की विशेषता बताते है।
दिल्ली की 10 घूमने लायक जगह और उसकी विशेषता :-


1 . लाल किला – लाल किला का निर्माण पाचवे मुग़ल शाशक शाहजहाँ के शाशन काल के समय में हुआ था। लाल किला का निर्माण 1663ई. से शुरू हो 1648ई. तक पूरा किया गया था। लाल किला को पर्यटन विभाग के अधीन 1947ई. में भारत की आजादी के बाद अंग्रेजो ने भारतीय सेना के हाथ में इसका अधिकार दिया था। यहाँ जाने के लिए सबसे नजदीक में चांदनी चौक मेट्रो स्टेशन है,यहाँ से 20 मिनट का रास्ता है,ऑटो रिक्शा की साधन व्यवस्था है।


2 .लोटस टेम्पल – इस मंदिर की स्थापन 13 नवम्वर 1986 ई. में की गई थी। यह मंदिर कमल के आकर का बना है। यह मंदिर सभी धर्मो के लिए पूजा स्थल है। यहाँ पहुंचने के लिए कालकाजी मैट्रो स्टेशन एक अच्छा विकल्प है। कालकाजी मेट्रो स्टेशन से सिर्फ 10 मिनट का पैदल रास्ता है इस मंदिर के लिए। इस मंदिर में आप मंगलवार सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे रविवार तक घूमने जा सकते है। यह मंदिर सोमवार को बंद रहता है।


3 .इस्कॉन हरे कृष्णा मंदिर – इस मंदिर का निर्माण 1993 में अच्युत कंविंदे द्वारा किया गया था और इस मंदिर का उद्घाटन पूर्व प्रधानमंत्री “सवर्गीय अटल बिहारी बाजपेयी” ने 1998 में किया था। यह मंदिर लोटस टेम्पल से 15 मिनट की दुरी पर स्थित है। यह मंदिर अंतर्राष्ट्रीय सोसाइटी को समर्पित बड़े और दिलजस्प मंदिरो में से एक है। इस मंदिर में आप आसानी से अभ्यारणों में घूम और बैठ सकती है। इस मंदिर के लिए निकटतम मेट्रो स्टेशन नेहरू प्लेस है। यहाँ से केवल 10 मिनट पैदल का रास्ता है।


4 . लोधी गार्डन – यह गार्डन यहाँ 16th सेंचुरी से स्थित है। यह गार्डन 90 एकड़ में फैला हुआ है। लोधी गार्डन एक सार्वजानिक गार्डन है। जो प्राचीन मुग़ल कब्रों और संरचनाओं को अपने अंदर समेटे हुए है। इस मंदिर में प्राकृतिक द्वारा निर्माणित बहुत सी चीजे देखने लायक है। साथ ही मानवो द्वारा भी इस पार्क में काफी चीजों का निर्माण किया गया है। इस पार्क को पहले लेडी विलिंगटन के नाम से जाना जाता था। इस मंदिर तक जाने के लिए 30 मिनट की दुरी पर स्थित खान मार्किट मैट्रो स्टेशन है।


5 . गुरुद्वारा बांग्ला साहिब -इस गुरूद्वारे की स्थापना1664 ई. में की गई थी। यह गुरुद्वारा सुबह के 5 बजे से रात के 12 बजे तक खुला रहता है। गुरु करीकिशन साहिब को समर्पित गुरुद्वारा बांग्ला साहिब में समय बिताना कभी अदभुद है। इस मंदिर के एक तरफ विशाल पानी का नाज़रा है जहा रंग-बिरंगी मछलिया देखने को मिलती है। इस गुरूद्वारे में रोज भोजन कराया जाता है। पटेल चौक मेट्रो स्टेशन से इस मंदिर की दुरी लगभग 10 से 15 मिनट की है।


6 . इंडिया गेट- इंडिया गेट का निर्माण प्रथम विश्वयुद्ध और अफगान युद्ध में मारे गए 90000 भारतीय सैनिको की याद में कराया गया था। यह गेट 42 मीटर लम्बा है, इस गेट का निर्माण 1931 ई. में किया गया था। यहाँ पहुंचने के लिए नजदीकी मेट्रो स्टेशन केंद्रीय सचिवालय है।

7. अक्षर धाम -इस मंदिर का निर्माण ज्योतिर्धर भगवान स्वामीनारायण की स्मिर्ति (याद) में किया गया था। इस मंदिर का परिसर 100 एकड़ जमीन में फैला हुआ है। इस मंदिर को दुनिया का सबसे विशाल हिन्दू मंदिर के लिए 26 दिसंबर 2007 में गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्डस में शामिल किया गया। यह मंदिर बहुत ही भव्य है। यह मंदिर सुबह 9.30 से शाम के 6.30 तक खुला रहता है। इस मंदिर तक जाने के लिए अक्षर धाम मेट्रो स्टेशन एक अच्छा विकल्प है।

8. जमा मस्जिद- इस मस्जिद के निर्माण की शुरुवात 1644 ई. में की गई थी, इस मस्जिद का निर्माण 1656 ई. में पूरा किया गया था। इस मस्जिद को शाहजहाँ ने अपने शाशन काल में बनवाया था। इस मस्जिद तक जाने के लिए सबसे नजदीक चावड़ी बाजार मेट्रो स्टेशन है।

9. चिड़िया घर -दिल्ली का चिड़ियाघर जिसका नाम दिल्ली का राष्ट्रिय प्राणी उद्दायन है। इस चिड़ियाघर की स्थापना 1959 ई. में 176 एकड़ जमीं के क्षेत्र में विस्तृत रूप से किया गया था। यह चिड़िया घर शुक्रवार को बंद रहता है। यहाँ जाने के लिए प्रगति मैदान मैट्रो स्टेशन एक अच्छा बिकल्प है।

10. क़ुतुब मीनार-यह मीनार विश्व की सबसे ऊंची मीनार है। इस मीनार का निर्माण 1911 ई. में ईट से किया गया है।इस मीनार की ऊचाई 72.5 मीटर (237.86 फिट) है। दिल्ली के प्रथम शाशक कुतुबुद्दीन ऐबक ने किया और इस मीनार की पांचवी मंजिल फिरोजशाह तुगलक ने बनवाया था। इस मीनार का निर्माण लाल बलुआ पत्थर से किया गया था। यहाँ जाने के लिए सबसे नजदीक कुतुबमीनार मेट्रो स्टेशन है। यह सुबह 10 बजे से शाम के 6 बजे तक खुला रहता है।


दिल्ली जाए तो इन जगहों का लुप्त जरूर उठाए। हमे पूरी उम्मीद है आपको इन जगहों पर जा कर अच्छा लगेगा।

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...