Sep, 22, 2019
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

58 साल बाद गुजरात में कांग्रेस कमिटी की बैठक, हार्दिक हो सकते है कांग्रेस में शामिल..

Sharing is caring!

58 साल बाद गुजरात में कांग्रेस कमिटी की बैठक, हार्दिक हो सकते है कांग्रेस में शामिल चुनाव के तारीखों की घोषणा के बाद कांग्रेस जुट गई है अपनी कमजोरियों को छुपाने में। 2014 की चुनाव में कांग्रेस सबसे जायदा बुरी तरह हारी थी गुजरात में, इसलिए कांग्रेस के निशने पे सबसे पहले है गुजरात।  गुजरात में 58 साल बाद कांग्रेस पार्टी अपनी वर्किंग कमिटी की मीटिंग करने जा रही है जिसमे पूर्व अध्यक्ष सोनिया गाँधी और उनके सुपुत्र और कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गाँधी के साथ प्रियंका वाड्रा भी मौजूद रहेंगी ।  

11 अप्रैल से लोकसभा चुनाव का पहला चरण शुरू हो जाएगा। ऐसे में राहुल गांधी, सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस के तमाम वरिष्ठ नेता चुनाव के महत्वपूर्ण मुद्दों पर विचार-विमर्श कर रणनीति तैयार करेंगे। बैठक में कृषि, आर्थिक संकट, बेरोजगारी, महिला सुरक्षा के मुद्दों पर नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार को हटाने पर भी चर्चा होगी।

कार्यसमिति की बैठक के पहले पार्टी के वरिष्ठ नेता एक प्रार्थना सभा में हिस्सा लेने के लिए अहमदाबाद के गांधी आश्रम जाएंगे। वहा जा कर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देंगे। 12 मार्च 1930 को साबरमती आश्रम से ही महात्मा गांधी ने ऐतिहासिक दांडी यात्रा शुरू की थी। 2019 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के तौर पर भी मनाया जा रहा है, साबरमती आश्रम में। 

कांग्रेस प्रदेश इकाई के प्रमुख अमित चावड़ा ने कहा- कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के बाद गुजरात की जनता अदालत के कटघरे में खरे होंगे राहुल गांधी, सोनिया गांधी, मनमोहन सिंह समेत कांग्रेस के तमाम वरिष्ठ नेता, जनसंकल्प रैली में भी हिस्सा लेंगे।पाटीदार आरक्षण को लेकर आंदोलन से सुर्खियों में आए हार्दिक पटेल कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव में उतर सकते हैं। ऐसा भी कयास लगाया जा रहा है कि आज राहुल और सोनिया गाँधी के मौजूदगी में  हार्दिक पटेल औपचारिक तोर पर कांग्रेस पार्टी में शामिल होंगे।

महात्मा गांधी और सरदार पटेल की धरती से कांग्रेस पूरे देश को एक मजबूत संदेश देना चाहती है। अब देखना ये होगा कि राहुल का सन्देश जनता जनता को कितना भाता है.  राहुल का कहना है कि 5 साल में नरेंद्र मोदी ने अपना वादा पूरा नहीं किया है, लोगों को केवल मूर्ख बनाया है। पांच साल की सत्ता के दौरान गरीबों, बेरोजगारों और किसानों को दुख दिया है, जिसे चुनावी मुद्दा बनाने की जरूरत है।  अब देखने वाली बात ये होगी कि इस बैठक में प्रियंका गाँधी भासन देती है या फिर लखनऊ रैली की तरह चुप ही रहेंगी। 

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...