Sep, 22, 2019
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

शशि कपूर के जन्मदिन पर जानिए कुछ रह्स्य, उनको क्यों बेचना पड़ा था प्रॉपर्टी और पत्नी को करना पड़ा था दुकान में काम

Sharing is caring!

Entertainment Desk : आज शशि कपूर जी का 81वा जन्मदिन है। हम उन्हें जन्मदिन की हार्दिक बधाई देते हुए सच्चे दिल से उन्हें याद करते है। शशि कपूर जी का जन्म 18 मार्च 1938 में कोलकाता में हुआ था। उनके पिता का नाम पृथ्वीराज कपूर था। माँ का नाम रामसरनी मेहरा कपूर था। शशि कपूर जी का असली नाम बलवीर पृथ्वीराज कपूर था। शशि जी का पेट नाम टैक्सी था। शशि जी का फ़िल्मी करियर 1941 से 1999 तक रहा। हम सभी उनको एक सेलिब्रिटी के रूप में जानते है। उनके अभिनय की प्रशंसा करते है। शशि जी की शादी जेनिफर केन्डाल से 1958 में हुई थी। शशि जी ने फिल्मो में अभिनय करने के साथ ही कई फिल्मो में डायरेक्टर व प्रोड्यूसर के तौर पर भी काम किया था । जिस दौरान उनकी आर्थिक स्थिति बहोत ख़राब हो गई थी। 60 का दशक उनके लिए बहुत कठनाईयो से भरा हुआ था।

शशि जी की सफलता के पीछे उनकी पत्नी का उतना ही बड़ा हाथ है, जितना की उनके खुद के अभिनय का। शशि जी ने सन 1991 में “अजूबा” फिल्म को डायरेक्ट और प्रोड्यूस किया था। जिसमे अमिताभ वच्चन, ऋषि कपूर, डिम्पल कपाड़िया और सोनम ने अहम् भूमिका निभाई थी। ये फिल्म सुपरफ्लॉफ़ हुई थी। जिस कारण शशि जी को 3.50 करोड़ का नुकसान हुआ था। जिस नुकसान की भरपाई के लिए उन्हें अपना जमीन बेचना पड़ा था। सन 1984 में फिल्म “उत्सव ” बनाई थी जिसमे अमिताभ जी को लिया था शशि जी ने पर अमिताभ जी के साथ दुर्घटना हो गई थी, जिस वजह से शशि जी ने खुद अभिनय भी किया था। ये फिल्म भी फ्लाफ हुई थी जिसमे 1.50 करोड़ का नुकसान हुआ था।

“शशि जी के बेटे कुणाल कपूर ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था” कि 60 के दशक में पापा को काम नहीं मिल रहा था जिस वजह से पापा को अपनी स्पोर्ट्स कार बेचनी पड़ी थी। साथ ही माँ को भी दुकान में सामान बेचना पड़ा था। पापा की जीवन का वो समय सबसे बुरा था। 70 के दशक में शशि जी की मेहनत रंग लाई। जब उनके साथ कोई फीमेल अभिनेत्री काम नहीं करना चाह रही थी, तब नंदा जी ने उनका साथ दिया, दोनों ने फिल्म “फूल खिले” में साथ काम किया जो हिट रही। उसके बाद दोनों ने कई फिल्मे साथ में की। उसके बाद शशि जी ने एक के बाद एक हिट फिल्मे दी। जैसे- शर्मीली, रोटी कपड़ा और माकन, दीवार, फकीरा, सुहाग, सत्यम शिवम् सुंदरम इत्यादि।

 शशि जी को कई अवार्ड भी मिले :– 1976-फिल्म फेयर 1979,1986 और 1994 – नेशनल फिल्म अवार्ड2011-पद्म भूषण , और 2015- दादा साहेब फाल्के अवार्ड से नवाजा गया था। शशि जी का देहान्त 4 सितम्बर 2017 को कोकिलाबेन धीरूभाई अम्बानी हॉस्पिटल, मुंबई में हुआ था। पर आज भी वो हमारी यादो में हमारे दिलो में याद बनकर जिन्दा है।  

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...