Oct, 16, 2019
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

महिलाएं भी लोन लेकर कर सकती है खुद का व्यवसाय, जानिए कैसे ?

Sharing is caring!

आज 8 मार्च अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के सुबह अवसर पर महिलाओ के लिए है खुशखबरी, महिलाए भी कर सकती है वयवसाय, अब महिलाओ को भी देगी बैंक लोन। महिलाओ के हिट में 7 नई स्कीम आई है जिसके द्वारा महिलाए भी बेवसाय कर पाएंगी और खुद को निर्भर बना पाएगी। जानते है क्या है वो 7 स्किम जिसके तहत महिलाए बना सकती है अपने जीवन को और भी बेहतर। गोवेर्मेंट आफ इण्डिया ने किया जारी।

1 . मुद्रा योजना – इस योजना के तहत महिलाए बियुटी पार्लर, सिलाई कढ़ाई के काम , किसी भी प्रकार के ट्युसन से सम्बंधित वेबसाय कर सकती है। इसकेलिए पहले वेरिफिकेशन की प्रक्रिया की जाएगी, फिर फीमेल एप्लिकेंट मुद्रा कार्ड दिया जाएगा जिससे महिलाए जरुरत का सामान खरीद पाएंगी।  

2 . अनपूर्णा योजना – इस योजना के तहत महिलाए घर में टिफिन पार्सल, या कोई छोटा-मोटा स्टॉल खोल कर वयवसाय कर सकती है। इस योजना के तहत महिलाए 50000 तक का लोन उठा सकती है। इस लोन की अवधि 36 महीने की होगी। इस योजना के तहत इंट्रेस्ट नहीं लगेगा। इस योजना के लिए स्टेट बैंक ऑफ मैसूर भुगतान करेगी।

3 . उद्योगिनी योजना – इस योजना के तहत महिलाए मार्केटिंग से जुड़े, खेतो से जुड़ी बेबसाय कर सकती है। इसके लिए उम्र की सिमा दी गई है 18 से 45 साल है। इस योजना के तहत 1 लाख तक का लोन मिलेगा। इस योजना का भुगतान पंजाब और सिंध बैंक करेंगी।

4 . स्त्री शक्ति व्यवसाय योजना – इस योजना का लाभ ऐसी कम्पनी उठा सकती है जिसमे महिला के नाम पर 50 % से जायदा शेयर हो। इस योजना के तहत  2 लाख तक की राशि प्रदान की जाएगी लोन के द्वारा। इसका इंट्रेस्ट 0.5 % होगा। इस योजना के तहत 5 लाख तक का लोन भी उठा सकते है। इस योजना का भुगतान स्टेट बैंक ऑफ़ इण्डिया कर रहा है।

5 . देना शक्ति बैंक योजना – इस योजना के तहत खेती-बारी सर जुड़ी, शिक्षा से जुड़ी , या फिर जनरल स्टोर से जुड़ी वय्वसाय कर सकती है। इसका इंट्रेस्ट लोन लेने की कैटोगरी पे निर्भर करता है। इस योजना के तहत 20 लाख तक का लोन लिया जा सकता है। इस योजना का भुगतान देना बैंक करेगी।

6 . महिला उद्योगनिधि योजना – इस योजना का लाभ व्यवसाय करने वाली महिलाए उठा सकती है। इस योजना का भुगतान पंजाब नेशनल बैंक कर रहा है।

7 . सेंट कल्याणी योजना – इस योजना के तहत महिलाए खुद की बनाई चीजों के लिए कर सकती है। जैसे,हाथ से तैयार की गई सिलाई ,बुनाई, कढ़ाई जैसे व्यवसाय के लिए।  या फिर अगर  महिलाए बियुटी पार्लर, टेलर्स, या फिर हैण्डीक्राफ जैसे व्यवसाय के लिए इस योजना का लाभ उठा  सकती है। महिलाओ के हित  में उठाया गया ये कदम हमारे देश की महिलाओ को आत्म- निर्भर बनाने में सफल साबित होगी ।

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...