Sep, 22, 2019
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

भारत का विदेशी मुद्रा भंडार हुआ मालामाल…

Sharing is caring!

ऐसा लगता है मोदी सरकार की राज में कुछ भी असंभव नहीं है। 2014 में जब मोदी प्रधानमंत्री बने और विदेश दौरे पे जाना शुरू किए तब जनता को कुछ अच्छा नहीं लगा, जनता थोड़ी डर सी गई थी कि कही ऐसा तो नहीं की ये काम करने के वजाय खुद विदेश घूम रहे है. इन्हे घूमने से फुर्सत मिले तब कुछ करे। ऐसा बहोत लोगो के मन में था, तो लीजिए उसका प्रमाण भी मिल ही गया। मोदी के सत्ता में आने के बाद भारत को जो इज्जत और मान तो बहोत मिला है. शायद ऐसा पहले नहीं हुआ था । पुलवामा हमले के बाद भी कांग्रेस के कुछ अधिकारियो ने कहा कि 5 सालो का हिसाब देने से मोदी जनता का धयान न भटकाए। तो लीजिए जी पांच साल का हिसाब। भारत को एक और बड़ी सफलता मिली है। मोदी जब विदेशी दौरे पर थे तब वो अपने देश के लिए ही काम कर रहे थे।

भारत के प्रति निवेशकों का भरोसा इतना बढ़ा कि देश का विदेशी मुद्रा में 94.4 करोड़ डॉलर की वृद्धि हुई, भारत का विदेशी मुद्रा भण्डार बढ़कर 399.21 अरब डॉलर हो गया है।  अमेरिकी डॉलर में व्‍यक्‍त किए जाने वाले विदेशी मुद्रा आस्तियों में विदेशी मुद्रा भंडार में मौजूद गैर-अमेरिकी मुद्राओं जैसे यूरो, पौंड और येन में होने वाले उतार-चढ़ाव के प्रभाव को भी शामिल किया जाता है।पिछले कुछ हफ्तों से स्थिर रहे देश के स्‍वर्ण भंडार में भी समीक्षाधीन हफ्ते के दौरान 48.87 करोड़ डॉलर की वृद्धि देखी गई और यह 23.253 अरब डॉलर पर पहुंच गया। इस दौरान अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष के साथ देश का विशेष निकासी अधिकार भी 30 लाख डॉलर बढ़कर 1.463 अरब डॉलर हो गया।आईएमएफ के साथ देश का भंडार भी 62 लाख डॉलर बढ़कर 2.999 अरब डॉलर हो गया। देश के विदेशी मुद्रा भंडार ने एक बार फिर 400 अरब डॉलर का आंकड़ा पार किया है। भारतीय रिजर्व बैंक के नए आंकड़ों के मुताबिक 1 मार्च को समाप्‍त सप्‍ताह के दौरान विदेशी मुद्रा भंडार 2.599 अरब डॉलर बढ़कर 401.776 अरब डॉलर हो गया। इससे पिछले सप्‍ताह के दौरान मुद्रा भंडार में 94.47 करोड़ डॉलर की वृद्धि हुई थी और यह 399.217 अरब डॉलर हो गया था। समीक्षाधीन सप्‍ताह के दौरान, समग्र भंडार का प्रमुख हिस्‍सा विदेशी मुद्रा आस्तियां 2.061 अरब डॉलर बढ़कर 374.060 अरब डॉलर हो गईं।

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...