Sep, 22, 2019
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

फार्मा इंड्रस्टी के पूर्व प्रमोटर हुए सुप्रीम कोर्ट में पेश

Sharing is caring!

Business Desk : रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर भाई मलविंदर सिंह और शिविंदर सिंह की अमेरिकी दवा कम्पनी दाइची सैंक्यो में आर्बिट्रेशन अवार्ड को लेकर क़ानूनी करवाई 3 साल से चल रही है। रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर भाई मलविंदर और शिविंदर ने अमेरिकी दवा कंपनी दाइची सैंक्यो 3500 करोड़ रुपए के आर्बिट्रेशन अवॉर्ड को लागू करवाने के लिए कोर्ट में लड़ रही है। सिंगापुर ट्रिब्यूनल में मलविंदर और शिविंदर ने 2016 में इस मामले में जीत हासिल की थी । रैनबैक्सी के पूर्व प्रमोटर भाई मलविंदर सिंह और शिविंदर सिंह दाइची सैंक्यो के आर्बिट्रेशन मामले में गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में पेश हुए। अदालत ने दोनों भाइयो से पूछा कि 3500 करोड़ रुपए के आर्बिट्रेशन अवॉर्ड के फैसले का वो कैसे पालन करेंगे।

सुप्रीम कोर्ट ने इस बारे में दोनों से ठोस योजना पेश करने को कहा है।सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि यह मामला सिर्फ  किसी भी व्यक्ति की प्रतिष्ठा का सवाल नहीं बल्कि देश की प्रतिष्ठा के लिए भी अच्छा नहीं है, देश की प्रतिष्ठा को भी खतरा ही है । आप किसी समय फार्मा इंडस्ट्री के लीडर थे, जिन पर फक्र था। अब आप कोर्ट में पेश हो रहे हैं, ये तो अच्छी बात नहीं है। आपकी ही नहीं देश की भी प्रतिष्ठा दाव पे लग चुकी है। आप जैसे लोग अगर कोर्ट में पेश होते है तो सिर्फ आपका ही नहीं आपके पद का भी अपमान होता है। देश के लिए भी बड़े अपमान की बात होती है की आप जैसे लोगो को कोर्ट में आने की नोवत ही क्यों आई।  सुप्रीम कोर्ट ने शिविंदर और मलविंदर से 28 मार्च को पेश होकर योजना देने का आदेश दिया  हैं। साथ ही कहा है कि उम्मीद करते हैं कि यह आखिरी बार होगा जब आप कोर्ट में पेश होंगे। आगे कभी हमे शर्मिंदा होने की या देश के सम्मान को आपकी वजह से ठेश नहीं पहुंचेगी । 

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...