Sep, 22, 2019
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

थायराइट क्या है? ये कैसे होता है? – इससे कैसे बचे ?

Sharing is caring!

थाइराइट एक तरह की ग्रंथि होती है जो गले में बिलकुल सामने ओर  होती है। यह ग्रंथि आपके सरीर के मोटवालजियम को नियंत्रण करती है। यानि जो भोजन हम खाते है उसे ऊर्जा में बदलने का काम करती है।  इसके अलावा यह आपके ह्रदय , मांशपेशियों , को भी प्रभावित करती है। बच्चो में थाइराइट तभी होता है जब गर्भावस्था के दौरान माता पिता को थाइराइड हो तो बच्चे को होने के चांस होते है , ऐसे में तुरंत ही चिकित्सक से सलाह लेने चाहिए ताकि बच्चे को थाइराइड से बचा सके। इसमें खान पियन का भी अच्छे से ध्यान रखना चाहिए।  

थाइराइड के कारण:-  

थायरॉइडिस, सोया उत्पाद, दवाइया, हथपोथल्मिक रोग, आयोडीन की कमी, विकिरण थैरेपी, तनाव, परिवार का इतिहास, ग्रेव्स रोग, गर्भावस्था और रजोनिवृत्ति।  

थाइराइड के लक्षण :- 

 थाइराइड के कारण शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता काम हो जाती है।  

 थाइराइड के सामान्य लक्षण :- 

 जल्दी थकना , शरीर सुस्त रहना , थोड़ा काम करते ही थक जाना , डिप्रेशन में रहने लगना , किसी भी काम में मन ना लगना , यादास्त कमजोर होना , मांशपेशियों और जोड़ो में दर्द होना शामिल है।  

थाइराइट का इलाज 3 तरह से होता है :- 

1 . रेडियोएक्टिव आयोडीन ट्रीटमेंट 

2 . सर्जरी 

3 . एंटीथायराइड गोलिया 

घरेलु नुस्खे जिससे इस बीमारी को काम किया जा सकता है :- 

 फ़्राईड फूड्स (तले हुए खाने से बच्चे ) , चीनी  , कॉफी , गोभी ( हर प्रकार की गोभी ) , ग्लूटेन इन सारी  खाधपदार्थो से दूर रहे। 

दवाई खाने के लगभग 5 घंटे बाद सोया का उपयोग आप कर सकते है।  

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...