Oct, 16, 2019
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

डूबने के कगार पर जेट एयरवेज, एतिहाद से की 750 करोड़ रूपये की मांग.

Sharing is caring!

मशहूर एयरलाइन्स कंपनी जेट एयरवेज की हालत इन दिनों कुछ ठीक नहीं है. जेट एयरवेज इनदिनों आर्थिक संकट का सामना कर रहा है। जेट एयरवेज के चेरयमैन नरेश गोयल ने पिछले हफ्ते 8 मार्च शुक्रवार को एतिहाद एयरलाइन्स को पत्र लिखा था, पत्र की जानकारी सोमवार को सामने आई है। गोयल एतिहाद को लिखा था कि अगले हफ्ते तक रकम की जरूरत होगी। नरेश गोयल ने एयरलाइन पार्टनर एतिहाद एयरवेज को पत्र लिखकर 750 करोड़ रुपए की नकद सहायता की तत्काल मांग की है।

image credit – jet airways

नरेश गोयल ने हालात को संकटो से घिरा हुआ बताया है, कहा है कि जेट एयरवेज को बचाने के लिए अगले हफ्ते तक750 करोड़ रूपये चाहिए। अंतरिम फंडिंग में देरी हुई तो यह जेट एयरवेज के भविष्य के लिए बेहद खतरनाक सिद्ध होगा। यहां तक कि एयरलाइन बंद भी हो सकती है। नरेश गोयल के मुताबिक जेट एयरवेज को जेट प्रिविलेज के शेयर गिरवी रखने के लिए भी उड्डयन मंत्रालय ने मंजूरी दे दी है। लॉयल्टी प्रोग्राम जेट प्रिविलेज में जेट एयरवेज की 49.9% हिस्सेदारी है, और  बाकी शेयर एतिहाद एयरवेज के हैं।

जेट एयरवेज के रेजोल्यूशन प्लान पर एतिहाद का बोर्ड सोमवार को अबू धाबी में चर्चा करेगा। जेट एयरवेज में एतिहाद की 24% हिस्सेदारी है। उसने अप्रैल 2014 में जेट में शेयर खरीदे थे।नकदी संकट से जूझ रही जेट एयरवेज को लीज देने वाले का बकाया नहीं चुका पाने की वजह से पिछले कुछ महीनों में 50 विमान की उड़ान बंद करना पड़ा हैं। 30 सितंबर 2018 तक जेट एयरवेज पर कर्ज का बोझ बढ़कर 8,052 करोड़ रुपए तक पहुंच चुका था। हाला की कुछ शर्तो के साथ एतिहाद ने जेट एयरवेज को मदत करने के लिए तैयार होगया है। अब देखना ये होगा कि संकटो से जूझ रहे जेट एयरवेज रिकवर कर पता है या नहीं।  

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...