Dec, 15, 2019
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

कांग्रेस नेता छोड़ रहे है कांग्रेस का साथ, अब कैसे सत्ता आएगी राहुल के हाथ?

Sharing is caring!

National Desk : लोकसभा चुनाव की तारीख आते ही हर पार्टियों में भगदड़ सी मच गई है। जहां राहुल, सोनिया और प्रियंका लगे है चुनाव के प्रचार प्रसार में, वही उनके पार्टी के नेता ही उनका साथ छोर कर जा रहे है। खबर है कि पिछले कई दिनों में 6 राज्यों से 17 बड़े नेता ने कांग्रेस पार्टी का साथ छोड़ दिया है। भाजपा में बढ़ रही है कांग्रेस के नेता की संख्या। जहा कांग्रेस में राहुल के साथ गुजरात में शामिल हुए हार्दिक पटेल वही कई बड़े नेता ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया है। राहुल जगह – जगह जा कर PM मोदी के खिलाफ बातें कर रहे है, मोदी को बुरा और खुद को अच्छा साबित करने की कोशिश कर रहे है। साथ ही उनके कई बड़े नेता उनका साथ छोड़ भाजपा में शामिल हो गए और ये साबित कर रहे है कि राहुल और प्रियंका से बेहरत मोदी ही है।

राहुल के हर सवाल का जबाब तो उनके नेता द्वारा ही उन्हें दिया जा रहा है। अगर वो सही है अच्छे है तो उनकी ही पार्टी के नेता उनके खिलाफ उनके बिपक्ष में क्यों जा रहे है। नवम्बर 2018 में भी जसदण उपचुनाव से पहले भी कांग्रेस के 12 से भी अधिक नेता कांग्रेस पार्टी को छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे।   असम में कांग्रेस के पूर्व विधायक रहे गौतम रॉय और पूर्व संसद किरीप चाहिला भी 13 मार्च 2019 को कांग्रेस का साथ छोड़ भाजपा के साथ आ खड़े हुए।  

कर्णाटक से कांग्रेस नेता डॉ. उमेश जाधव भी कांग्रेस को छोड़ भाजपा में शामिल हुए। कांग्रेस से उमेश जाधव चांचोली विधान सभा से दो बार विधायक रह चुके है। इस बार भाजपा द्वारा कुलबुर्गी लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे।  

महाराष्ट्र से कांग्रेस के बरिष्ठ नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल के सुपुत्र सुजय विखे पाटिल 12 मार्च 2019 को भाजपा में जा शामिल हुए है। खबर है कि कांग्रेस से विधायक कालिदास कोलंबकर ने भी भाजपा में शामिल होने का मन बना लिया है। जल्द ही भाजपा में वो भी दिख सकते है।

जामनगर के विधायक जो कांग्रेस से है वल्लभ धारविया उन्होंने सोमवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। 8 मार्च 2019 की ध्रांगधरा के विधायक परसोतम सबारिया और माणवदर के कांग्रेसी विधायक चावड़ा ने भी कांग्रेस से इस्तीफा दे कर भाजपा के साथ जुड़ गए।  

तेलंगना से पिछले 10 दिनों में 19 कांग्रेस के नेता ने कांग्रेस का साथ छोड़ दिया है। कांग्रेस विधायकों में से चार तेलंगना राष्ट्रिय समिति में शामिल हो चुके है। सी दामोदर राजन सिम्हा की पत्नी और सामाजिक कार्यकर्त्ता पाधिनि रेड्डी ने भाजपा का दामन थाम लिया है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के लिए ये बरी समस्या है कि अपने पार्टी के नेताओं को दूसरे दलों में जाने से कैसे रोके। आगे और भी कई कोंग्रेसी नेता भाजपा में शामिल हो सकते है। 2014 के आम चुनाव से पहले भी कई कोंग्रेसी नेताओं के साथ साथ दूसरे दलों के नेता भी अपनी पार्टी को छोर कर भाजपा में शामिल हो रहे थे। फिर एक बार 2014 की ही तरह नेताओं का भाजपा में शामिल होना शुरू होगया है।  

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...