Dec, 15, 2019
HOTLINE: 9594041704
BREAKING NEWS

आपके लिए क्या मायने है प्यार के ? प्यार करने वाले जरूर पढ़ें…

Sharing is caring!

आज हम जानने की कोशीश  करेंगे की प्यार क्या है ? क्यों है ? कोई कहता है, प्यार भावना  है, तो कोई कहता है बेवकूफी है, कोई कहता है प्यार पूजा है तो कोई कहता है प्यार धोखा है। आखिर ये प्यार चीज क्या है समझ नहीं आता जो न हो तो रहा नहीं जाता और हो तो सहा नहीं जाता। जी प्यार ऐसा ही है अगर आपकी लाइफ में प्यार न हो तो आप उसे ढूंढते रहोगे और अगर आपकी जिंदगी में प्यार हो तो आप सह नहीं पते हो। एक छोटी सी उदाहरण के साथ मै अपनी बातो को स्पष्ट  करना चाहूंगी। एक माँ अपने बच्चो से कितना प्यार करती है, 9 महीने गर्भ में रखना, जन्म देना बच्चे का पालन पोसन खाना पीना सब करती है। बच्चे को चलना सिखाती है बोलना सिखाती है, पढाती लिख़ाति है। पिता उनकी देखभाल करते है। माता – पिता बच्चे की हर जरूरतों को पूरा करते है। सोचिए जिनसे हमें इतना प्यार मिलता है जिसकी कल्पना भी हम नहीं कर सकते क्या उस प्यार की कदर होती है हमें। नहीं, हम उनके इस प्यार को ऐसे भूलते है जैसे वो कुछ है ही नहीं हमारे लिए।  आज कल के बच्चे तप 10व में  जाते- जाते ऐसा लगता है जैसे मनो अपना परिवार छोर पूरी दुनिया में वो प्यार ढूंढते है।  जिस माँ – बाप ने बचपन से उन्हें बिना किसी स्वार्थ के प्यार दिया, उनकी छोटी छोटी बातो पे चिढ जाते है, उनसे सवाल जबाब ऐसे करते है जैसे मनो उन्हें जन्म देकर बहोत बड़ी गलती करदी हो उनके  माँ- बाप ने। वो उम्मीद करते है जी उन्हें कोई ऐसा दोस्त मिले जो उनसे प्यार करे उनकी हर बात माने, और इस तलाश में वो रह नहीं पाते अपनी जिंदगी ठीक ढंग से जी नहीं पाते। तो हुआ ना ” प्यार वो जो न मिले तो रहा न जाए और मिले तो सहा न जाए। 

“चलिए अब बात करते है आज कल के बॉयफ्रेंड गर्लफ्रैंड के प्यार की बाते। एक लड़के ने एक लड़की को देखा अच्छी लगी हो गया प्यार 10 दिन उसके पीछे पारा उसे प्रपोज़ किया उस लड़की को भी लगा मेरे पीछे ये रोज़ आता मतलब मुझसे प्यार करता है वो भी खुश हो के अपने प्यार का इजहार करती है।  ऐसा कई लडको के साथ लडकिया भी करती है क्या ये प्यार है।  हो सकता है सच्चा भी हो पर अक्सर होता है क्या लड़का लड़की मिलते रहते है एक दूसरे से आई लव यू का सिलसिला चलता रहता है अगर कभी लड़के ने लड़की की फरमाइश पूरी नहीं की तो भी रिस्ता ख़त्म। तो कभी लड़का इस प्यार को शारीरिक रिश्ते में बदलना चाहे और लड़की इंकार करे तो रिस्ता ख़त्म, प्यार खत्म, मनो प्यार कोई खिलौना हो जो पटक दिया और टूट गया जी नहीं रिश्ते चाहे जो बगी हो, माँ-बाप से भाई-बहनसे दोस्त से या फिर पति पत्नी के बिच हर रिश्ते में अगर कुछ मायने रखता है तो वो है विश्वाश। जिस भी रिस्तो में विश्वाश हो वो रिस्ता दूर हो कर भी नहीं टूटता। प्यार का दूसरा नाम होता है विश्वाश। कभी कभी ऐसा होता है की हमें कोई अच्छा लगता है तो हम कहते है की हम उससे प्यार करते है जबकि वो प्यार नहीं प्यारा होता है। आप उसके प्रति भावुक हो जाते हो और गलत कर बैठते हो। प्यार को जाने समझे फिर कमिट करे। उम्मीद है मेरी बातें आप सब को हर्ट नहीं करेंगी। प्यार को लेकर अपनी राय जरूर दे हमें। क्या है आपके लिए प्यार के मायने।      

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of
Loading...